Home vhakti song lyrics महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ – mahamrityunjaya mantra lyrics in hindi

महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ – mahamrityunjaya mantra lyrics in hindi

407
0
महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ – mahamrityunjaya mantra lyrics in hindi
  • महामृत्युंजय मंत्र

ॐ हौं जूं स: ॐ भूर्भुव: स्व: ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्व: भुव: भू: ॐ स: जूं हौं ॐ !! महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ

महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ
  1. महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ :- इसका जिक्र ऋग्वेद में यजुर्वेद से मिलता है। साथ ही शिवपुराण सहित अन्य ग्रंथों में भी इसका महत्व बताया गया है। संस्कृत में, महामृत्युंजय एक ऐसे व्यक्ति को संदर्भित करता है जो मृत्यु को जीतने वाला है। इसलिए भगवान शिव की स्तुति के लिए महामृत्युंजय मंत्र का जाप किया जाता है।
  2. इसका जाप करने से आपको दुनिया की सभी परेशानियों से मुक्ति मिलती है। यह मंत्र जीवनदायिनी है। इससे जीवनी शक्ति के साथ-साथ सकारात्मकता भी बढ़ती है। महामृत्युंजय मंत्र के प्रभाव से सभी प्रकार के भय और तनाव समाप्त हो जाते हैं। आदि शंकराचार्य ने भी शिवपुराण में वर्णित इस मंत्र का जाप करके जीवन प्राप्त किया।

महामृत्युंजय मंत्र का अर्थ इन हिंदी

त्रयंबकम- त्रि.नेत्रों वाला ;कर्मकारक।
यजामहे- हम पूजते हैं, सम्मान करते हैं। हमारे श्रद्देय।
सुगंधिम- मीठी महक वाला, सुगंधित।
पुष्टि- एक सुपोषित स्थिति, फलने वाला व्यक्ति। जीवन की परिपूर्णता
वर्धनम- वह जो पोषण करता है, शक्ति देता है।
उर्वारुक- ककड़ी।
इवत्र- जैसे, इस तरह।
बंधनात्र- वास्तव में समाप्ति से अधिक लंबी है।
मृत्यु- मृत्यु से
मुक्षिया, हमें स्वतंत्र करें, मुक्ति दें।
मात्र न
अमृतात- अमरता, मोक्ष।

  • महामृत्युंजय मंत्र का सरल अर्थ

इस मंत्र का अर्थ है कि हम भगवान शिव की पूजा करते हैं, जिनकी तीन आंखें हैं, जो हर सांस में जीवन शक्ति का संचार करते हैं और पूरी दुनिया का पोषण करते हैं।

महामृत्युंजय मंत्र का जाप कब करना चाहिए

इस मंत्र का सुबह-शाम जाप किया जाता है। यदि संकट गंभीर है, तो आप इसे दिन के किसी भी समय जाप कर सकते हैं।

महामृत्युंजय मंत्र से क्या होता है

ऐसा कहा जाता है कि इस मंत्र का जाप करने वाले पर भगवान शिव प्रसन्न होते हैं। कई लोगों का यह भी मानना है कि महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने से व्यक्ति की मृत्यु नहीं होती है। महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने से व्यक्ति मोक्ष को प्राप्त करता है। उनकी मौत दर्दनाक नहीं है।

महामृत्युंजय जाप क्यों किया जाता है

भय से छुटकारा पाने के लिए 1100 मंत्रों का जाप किया जाता है। – लोगों से मुक्ति के लिए 11000 मंत्रों का जाप किया जाता है। पुत्र प्राप्ति के लिए, उन्नति के लिए, अकाल मृत्यु से बचने के लिए एक और सवा लाख जप करना आवश्यक है।

महामृत्युंजय मंत्र में कितने अक्षर होते हैंमहामृत्युंजय मंत्र जाप संख्या

महामृत्युंजय मंत्र में 33 अक्षर होते हैं। महर्षि वशिष्ठ के अनुसार ये पत्र 33 देवताओं के घोषितकर्ता हैं। इन तैंतीस देवताओं में वसु ११ रुद्र और 12 आदित्यनाथ 1 प्रजापति इथा 1 शटकर हैं। इन तैंतीस देवताओं की संपूर्ण शक्तियाँ महामृत्युंजय मंत्र द्वारा सुनिश्चित की जाती हैं।

मंत्र कितनी बार जपना चाहिए

किसी भी मंत्र का फल पाने के लिए पहले संकल्प करना चाहिए। व्यक्ति को कम से कम एक माला अर्थात 108 बार जाप करना चाहिए लेकिन कुछ लोग कहते हैं कि व्यक्ति को कम से कम 11 बार जप करना चाहिए

सोमवार महामृत्युंजय मंत्र

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्‌। उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्‌॥

महामृत्युंजय मंत्र सिद्धि

यदि महामृत्युंजय मंत्र का जप तीन लाख बार पूरा हो जाए, तो वह मनचाही चीजें पाने की सिद्धि प्राप्त कर सकता है। जब ऐसा होता है, तो उनका सांसारिक जीवन बहुत खुश हो जाता है। यदि कोई महामृत्युंजय मंत्र का जाप चार लाख बार पूरा करता है, तो भगवान शिव उसे सपने में देखते हैं। ऐसा शिव पुराण में कहा गया है।

महामृत्युंजय बीज मंत्र

ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ !! रोगों से मुक्ति के लिए यूं तो महामृत्युंजय मंत्र विस्तृत है लेकिन आप बीज मंत्र के स्वस्वर जाप करके रोगों से मुक्ति पा सकते हैं। इस बीज मंत्र को जितना तेजी से बोलेंगे आपके शरीर में कंपन होगा और यही औषधि रामबाण होगी। रुद्राक्ष की माला पर ही जाप करें।

संपूर्ण महामृत्युंजय मंत्र डाउनलोड करे

Download

महामृत्युंजय मंत्र 108 बार मुक्त mp3 डाउनलोड इस सोंग में संपूर्ण महामृत्युंजय मंत्र है राईट साइड में तीन बिंदु पर क्लिक करके संपूर्ण महामृत्युंजय मंत्र डाउनलोड करे

महामृत्युंजय बीज मंत्र सुनाइए

  1. उर्वारुकमिव बन्धनामृत्येर्मुक्षीय मामृतात् !!  हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्‍बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्‍धनान् मृत्‍योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं  !! … किसी दुसरे के लिए जप करना हो तो-ॐ जूं स (उस व्यक्ति का नाम जिसके लिए अनुष्ठान हो रहा हो) पालय पालय स: जूं ॐ। ( महामृत्युंजय बीज मंत्र ).

महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ

Disclamer

Previous article404 not found
Next articleInformation
Dr. Mohan is the founder of this blog. He is a Professional Blogger who is interested in topics related to SEO, Tech, Technology, Internet. If you need some information related to blogging or internet, then you can feel free to ask here. It is our aim that you get the best information on this blog.